कोरोनावायरस के खौफ के बीच गुरुद्वारे अभी भी खुले, गुरुद्वारा प्रशासन ने बंद करने से किया इनकार

अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के प्रवेश द्वार पर एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता भक्तों के शरीर के तापमान की जांच करते हुए. पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में सैकड़ों गुरुद्वारे, जिनमें ऐतिहासिक महत्व के वे गुरुद्वारे भी शामिल हैं जहां प्रतिदिन दसियों हजार पर्यटक आते हैं, अभी भी खुले हैं.
नरिंदर नानू/एएफपी/गैटी इमेजिस
अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के प्रवेश द्वार पर एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता भक्तों के शरीर के तापमान की जांच करते हुए. पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में सैकड़ों गुरुद्वारे, जिनमें ऐतिहासिक महत्व के वे गुरुद्वारे भी शामिल हैं जहां प्रतिदिन दसियों हजार पर्यटक आते हैं, अभी भी खुले हैं.
नरिंदर नानू/एएफपी/गैटी इमेजिस

कोविड​​-19 के प्रसार को सीमित करने के उपाय के रूप में सामूहिक जमवाड़े पर अंकुश लगाने की बढ़ती मांग के साथ, जम्मू और कश्मीर प्रशासन ने बुधवार को वैष्णो देवी यात्रा और अंतरराज्यीय बस संचालन को स्थगित करने की घोषणा की. राज्य प्रशासन ने जम्मू के दो प्रमुख पार्क भी बंद कर दिए हैं, जिसमें प्रसिद्ध बाग-ए-बहू और पुंछ जिले के सभी सार्वजनिक पार्क शामिल हैं. हिमाचल प्रदेश में, अगले सप्ताह से शुरू होने वाले नवरात्रि के दौरान अपेक्षित भीड़ से बचने के लिए राज्य भर में अन्य मंदिर के साथ ही पांच शक्ति पीठों को बंद कर दिया गया है. दर्शनार्थ आए भक्तों को राज्य की सीमा पर परामर्श देकर वापस लौटा दिया जा रहा है. हरियाणा ने भी इसके खिलाफ बड़े कदम उठाए हैं. पंजाब, हरियाणा और दिल्ली सरकारों ने शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया है और सिनेमा हॉल, जिम और स्विमिंग पूल को अगले आदेश तक बंद रखने का आदेश दिया है. इस बीच पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में सैकड़ों गुरुद्वारे, जिनमें ऐतिहासिक महत्व के वे गुरुद्वारे भी शामिल हैं जहां प्रतिदिन दसियों हजार पर्यटक आते हैं, अभी भी खुले हैं.

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) स्वर्ण मंदिर सहित पूरे पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और चंडीगढ़ में फैले गुरुद्वारों का प्रबंधन करती है. अकेले स्वर्ण मंदिर में ही प्रति दिन एक लाख से अधिक आगंतुक आते हैं. संपर्क करने पर, एसजीपीसी के मुख्य सचिव रूप सिंह ने कहा कि गुरुद्वारों को बंद करने का सवाल ही नहीं उठता. ऐतिहासिक महत्व के नब्बे से अधिक गुरुद्वारे और एसजीपीसी की देखरेख के तहत करीब 800 अन्य गुरुद्वारे भक्तों के दर्शन के लिए खुले रहेंगे. कोविड​​-19 के खिलाफ एहतियात के तौर पर, रूप सिंह ने कहा, "हम लोगों को सेनिटाजर उलपब्ध करा रहे हैं और जागरुकता फैलाने वाली घोषणाएं कर रहे हैं."

एसजीपीसी के प्रवक्ता कुलविंदर सिंह रामदास ने कहा, "जिस जगह आने से लोग ठीक होते हैं, हम उसे क्यों बंद करेंगे." उन्होंने श्रद्धालुओं के लिए स्क्रीन पर एक प्रेस विज्ञप्ति साझा की जिसमें बुखार और वायरस के अन्य संभावित लक्षणों के नजर आने पर चिकित्सा शिविर जाने का वर्णन किया गया था, जिसे संयुक्त रूप से राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों और एसजीपीसी द्वारा प्रबंधित एक चिकित्सा संस्थान द्वारा आयोजित किया गया था. "अलग-थलग करने और मानव संपर्क के माध्यम से संक्रमण के संभावित प्रसार के बारे में बात करते हुए," उन्होंने कहा, "ठीक है, यह एक हजार अन्य तरीकों से हो सकता है." जब अन्य धार्मिक स्थलों को बंद करने के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “यह उनका निर्णय है. हम करीब नहीं थे. हमने संगत को सुरक्षित दूरी बनाए रखने के लिए कहा है. ” एसजीपीसी की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि विभिन्न गुरुद्वारों को गुरुवार को सभी मनुष्यों की सुरक्षा के लिए धार्मिक सेवाओं का आयोजन करना था.

एसजीपीसी की एक वरिष्ठ सदस्य और पूर्व महासचिव, किरनजोत कौर ने कहा, "प्रबंधन के लिए यह सबसे कठिन समय है क्योंकि उन्हें अंध विश्वास और तर्क के बीच संघर्ष करना पड़ता है." "कोरोनावायरस विनाशकारी हो सकता है, एहतियात सबसे अच्छा समाधान है." उन्होंने कहा, हालांकि, गुरुद्वारों को बंद करना संभव नहीं है लेकिन गुरुद्वारे के कर्मचारियों और ग्रंथियों की सुरक्षा को देखते हुए आने वाले तीर्थयात्रियों के प्रवेश को नियंत्रित और उनकी संख्या को निर्धारित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को एन95 मास्क के बिना गुरुद्वारे के मुख्य हॉल में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए, "खाना पकाने और लंगर परोसने वालों को मास्क पहनना चाहिए," और "तीर्थयात्रियों को लंगर खाने से हतोत्साहित किया जाना चाहिए." एसजीपीसी ने अब तक ऐसे सुझावों पर ध्यान नहीं दिया है.

राष्ट्रीय राजधानी में गुरुद्वारों को नियंत्रित करने वाली दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने भी इसी तरह के कायदों को लागू किया है. डीएसजीएमसी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, "हां, हम चाहते हैं कि लोग जिम्मेदार नागरिक बनें. सिख होने के नाते, यह हमारा कर्तव्य है कि हम वायरस के प्रसार को रोकें." उन्होंने आगे कहा कि सिखों को इसके लिए जो भी आवश्यक हो करना चाहिए और इसमें अलग-थलग करने और स्व-आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता भी शामिल है." लेकिन उन्होंने कहा कि डीएसजीएमसी गुरुद्वारों को बंद करने का आदेश नहीं दे सकती है. लोगों को समझना चाहिए और अपने दम पर रोकथाम के लिए कदम उठाने चाहिए.

जतिंदर कौर तुर वरिष्ठ पत्रकार हैं और पिछले दो दशक से इंडियन एक्सप्रेस, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स और डेक्कन क्रॉनिकल सहित विभिन्न राष्ट्रीय अंग्रेजी-भाषी दैनिकों में लिखते रहे हैं.

Keywords: COVID-19 coronavirus World Health Organisation
कमेंट