मुंबई में मरीजों को लौटा रहे अस्पताल, उपलब्ध बिस्तरों की रियल टाइम ट्रैकिंग बेअसर

मुंबई के एक अस्पताल ने कोविड-19 जांच रिपोर्ट ना होने के चलते विनायक जाधव को भर्ती करने से इनकार कर दिया.
साभार विरेन झाधव
मुंबई के एक अस्पताल ने कोविड-19 जांच रिपोर्ट ना होने के चलते विनायक जाधव को भर्ती करने से इनकार कर दिया.
साभार विरेन झाधव

12 मई की दोपहर को मुंबई के चेंबूर इलाके के 80 वर्षीय पूर्व बैंकर विनायक जाधव को बुखार और बेचैनी महसूस होने लगी. शुरुआत में तो उनके परिवार को ऐसा संदेह नहीं हुआ कि वह नोवेल कोरोनवायरस से ग्रस्त हो सकते हैं. वह लॉकडाउन के बाद बमुश्किल अपने घर से बाहर निकले थे. बस दस दिन पहले एक एटीएम तक गए थे.

उनके बेटे वीरेन उन्हें पास में ही मधुमेह रोग विशेषज्ञ विशाल चोपड़ा के क्लिनिक ले गए. चोपड़ा, जो पवई के डॉ. एलएच हीरानंदानी अस्पताल से भी जुड़े हुए हैं, ने वीरेन को सीधे अस्पताल ले जाने के लिए कहा. वीरेन के मुताबिक, अस्पताल के एक डॉक्टर ने विनायक का इलाज करने से पहले उन्हें कोविड​​-19 परीक्षण कराने के लिए कहा.

"उस वक्त मेरी चिंता बस यही थी कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कर लिया जाए ताकि जल्दी से इलाज शुरू हो सके," वीरेन ने मुझे बताया. "वह 80 साल के हैं इसलिए मैं कोई जोखिम नहीं लेना चाहता था."

लेकिन अस्पताल ने वीरेन को कहा कि वह अपने पिता को घर ले जाएं और जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्हें लेकर आएं. "उन्होंने मुझे बताया कि इसमें 48 घंटे लगेंगे," वीरेन ने कहा.

यह महाराष्ट्र सरकार के आदेशों का उल्लंघन था. जैसा कि इंडियन एक्सप्रेस ने बताया है, कई सरकारी अधिसूचनाएं जारी कर अस्पतालों के लिए अनिवार्य किया गया है कि वे मरीजों का इलाज करेेंगे भले ही कोविड-19 जांच की रिपोर्ट अभी ना आई हो. सरकार ने अस्पतालों से संदिग्ध कोविड-19 रोगियों के लिए एक प्रतीक्षा क्षेत्र बनाने और वहां उनका इलाज करने के लिए कहा. इसका पालन नहीं किए जाने पर महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत कार्रवाई की चेतावनी भी दी. 30 अप्रैल की एक सरकारी अधिसूचना में कहा गया है, "किसी भी मरीज को बिना जांच किए और किसी भी परिस्थिति में आपेक्षित हस्तक्षेप किए बिना नहीं लौटाया जाना चाहिए."

एंटो टी जोसेफ मुंबई के एक वरिष्ठ पत्रकार और ब्रिटिश शेवनिंग स्कॉलर हैं. उन्होंने लेखक, संपादक और स्तंभकार के रूप में डीएनए, इकोनॉमिक टाइम्स, द गार्डियन (यूके) और डेक्कन क्रॉनिकल ग्रुप के साथ काम किया है.

Keywords: COVID-19 public health Mumbai Maharashtra
कमेंट