जालंधर का कोरोना हॉटस्पॉट बना पंजाब केसरी अखबार

27 अप्रैल 2020
26 अप्रैल की रात 9 बजे तक पंजाब के जालंधर जिले में कोविड-19 के 68 मामले थे. जिले के कुल मामलों में पंजाब केसरी के मामलों का प्रतिशत 48 है.
रवि कुमार/ हिंदुस्तान टाइम्स/ गैटी इमेजिस
26 अप्रैल की रात 9 बजे तक पंजाब के जालंधर जिले में कोविड-19 के 68 मामले थे. जिले के कुल मामलों में पंजाब केसरी के मामलों का प्रतिशत 48 है.
रवि कुमार/ हिंदुस्तान टाइम्स/ गैटी इमेजिस

26 अप्रैल रात 9 बजे तक पंजाब केसरी समूह के 19 कर्मचारियों के संपर्क में आकर 16 अन्य लोग कोरोना संक्रमित हो चुके थे. यह जानकारी एक स्वास्थ्य अधिकारी और एक जिला प्रशासन के अधिकारी ने मुझे दी है. 26 अप्रैल की रात 9 बजे तक पंजाब के जालंधर जिले में कोविड-19 के 68 मामले थे. इस तरह इस जिले के कुल मामलों में पंजाब केसरी के मामलों का प्रतिशत 48 है. स्वास्थ्य कर्मचारी ने बताया कि 25 अप्रैल तक इस समूह के लोगों के 200 नमूने लिए जा चुके थे और उनके संपर्क में आने वालों की तलाश जारी है और हो सकता है कि इनसे संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या और बढ़े.

समूह के उपाध्यक्ष और संयुक्त संपादक अविनाश चोपड़ा ने मुझे बताया कि समूह ने अपने सभी कर्मचारियों को मध्य अप्रैल से घर से काम करने या वर्क फ्रॉम होम के लिए कहा था. चोपड़ा ने दावा किया कि उनका अखबार मार्च के शुरू में ही कोविड-19 के लिए आवश्यक सावधानियों अपनाने लगा था. उन्होंने बताया कि उनके एक कर्मचारी की जांच पॉजिटिव आने के बाद पंजाब केसरी समूह ने जिला अधिकारियों को अपने कार्यलय के सभी कर्मचारियों की कोविड-19 जांच करने को कहा था. उन्होंने बताया कि जांच के परिणाम 50 घंटे बाद आए. उन्होंने कहा, “उस दौरान क्या हुआ कि मान लीजिए मैं संक्रमित हूं तो मैं अपने संपर्क में आने वाले लोगों को भी संक्रमित कर दूंगा. इस तरह यह संक्रमण हमारे समूह और शहर में फैल गया.”

पंजाब कश्मीर समूह हिंदी में पंजाब केसरी, ऊर्दू में हिंद केसरी और पंजाबी भाषा में जग बाणी अखबार प्रकाशित करता है. पंजाब के मीडिया में खबर थी कि एक भाषाई खबर से कोरोना के मामले सामने आए हैं लेकिन किसी ने भी पंजाब केसरी का नाम नहीं लिया. समूह का बहु मंजिला कार्यालय घनी आबादी वाले पक्का बाग इलाके में स्थित है और इसके चारो ओर संकरी गलियों का जाल-सा है. जिला प्रशासन के अधिकारी ने मुझे बताया कि वे लोग इस बात की जांच कर रहे हैं कि कार्यालय में सोशल डिसटेंसिग का पालन किया गया था या नहीं.

वायरस की चपेट में आने वाले तकरीबन तीन कर्मचारी ऑफिस के पास किराए के मकानों में रहते हैं. पंजाब केसरी के कर्मचारी के एक 70 साल के मकान मालिक को जब कोरोनावायरस संक्रमण हुआ, तो कोविड-19 संक्रमण वाले कर्मचारियों के रहने वाली सभी जगहों को सील कर दिया गया. पंजाब केसरी के सब-एडिटर के पिता और उनके संपर्क में आए छह लोग कोविड-19 पॉजिटिव निकले हैं. फिलहाल सब-एडिटर की रिपोर्ट अभी नहीं आई है.

अप्रैल में पंजाब केसरी के दो स्टाफ दूध की गाड़ी में हिमाचल प्रदेश के चम्बा गए थे. अधिकारी ने बताया कि उन्हें पकड़ लिया गया था और जांच करने पर उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी.

जतिंदर कौर तुर वरिष्ठ पत्रकार हैं और पिछले दो दशकों से इंडियन एक्सप्रेस, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स और डेक्कन क्रॉनिकल सहित विभिन्न राष्ट्रीय अखबारों में लिख रही हैं.

Keywords: COVID-19 coronavirus lockdown coronavirus
कमेंट