काम जारी है

बीआर आंबेडकर की किताबों के प्रकाशन की मुश्किल डगर

दादर की चैत्य भूमि जहां आंबेडकर का अंतिम संस्कार किया गया, वहां साल भर उनकी किताबों के स्टाल लगे रहते हैं.
अनुराग बनर्जी/कारवां
दादर की चैत्य भूमि जहां आंबेडकर का अंतिम संस्कार किया गया, वहां साल भर उनकी किताबों के स्टाल लगे रहते हैं.
अनुराग बनर्जी/कारवां

फुर्सत के नायाब पल में पांच दिसंबर 1956 की रात भीमराव आंबेडकर दिल्ली के अलीपुर रोड स्थित अपने किराए के मकान में रेडियोग्राम पर बज रही बौद्ध प्रार्थना को सस्वर दोहरा रहे थे, “बुद्धम शरणं गच्छामि, धम्म शरणं गच्छामि, संघम शरम् गच्छामि” कि तभी उनका रसोइया डिनर के लिए आने को कह कर उनका ध्यान-भंग करता है. उन्हें थोड़ा-सा चावल खाने के लिए बहुत मान-मनौव्वल करना पड़ता था. डाइनिंग टेबल तक आने के दौरान आंबेडकर अपनी लाइब्रेरी के पास ठिठक जाते और रात में पढ़ने के लिए कुछ किताबें चुनते. केंद्र सरकार के एक स्टाफ नानकचंद रततू, उनके सचिवालय के काम में सहयोग करते रहे थे, देर रात तक ही वहां से रुखसत हो पाते थे. 1952 में केंद्रीय विधि मंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद उनका सरकारी स्टाफ उनके पास नहीं रह गया था. आंबेडकर ने रत्तू को निर्देश दिया कि वह टाइप किए गए कागजात को अगली सुबह ही प्रकाशन के लिए भिजवा दें. इन कागजातों में उनकी शीघ्र प्रकाशित होने वाली किताब ‘दि बुद्धा एंड हिज धम्मा’ की प्रस्तावना और परिचय भी संलग्न था.

आंबेडकर की दूसरी पत्नी सविता अपनी आत्मकथा में याद करती हैं कि वह “अपने जीवन के अंतिम क्षण तक” लेखन में तल्लीन थे. चूंकि उस समय तक फोटोकॉपी की सुविधा नहीं थी, वह बताती है, उन्हें अपने शोध अनुसंधान के लिए दुर्लभ किताबों की हाथ से लिखी या टाइप की हुई कॉपी पर निर्भर रहना होता था. “उन्हें लंदन की ब्रिटिश लाइब्रेरी से कुछ किताबों की टंकित प्रतियां मिल गई थीं,” सविता आंबेडकर लिखती हैं, “ज्ञान के लिए उनकी अधीरता आवेशपूर्ण थी और इसका कोई सानी नहीं था.”

अपने जीवन के अंतिम वर्षों में, गिरती सेहत और बेशुमार राजनीतिक प्रतिबद्धताओं की तमाम व्यस्तताओं के बावजूद आंबेडकर अपने लिखने के लिए थोड़ा समय निकाल ही लेते थे और अपनी चार महत्वाकांक्षी किताबों के ड्राफ्ट को दोहराते थे. बाद में ये किताबें, दि बुद्धा एंड हिज धम्म्, बुद्धा एंड कार्ल मार्क्स, रिवॉल्यूशन एंड काउंटर रिवॉल्यूशन इन एनशिएंट इंडिया और रिडल्स इन हिंदुइज्म के नाम से प्रकाशित हुईं. सविता आंबेडकर ने ऐसी 18 किताबों की एक सूची दी है, जिनकी तैयारी किसी न किसी स्तर पर चल रही थी. उन्होंने कहा, “कुछ तो बिना शीर्षक के किताबों के अध्याय हैं, जबकि कुछ आलेख उनके श्रृंखलाबद्ध विचारों के आधार पर तैयार किए गए हैं.” वह अपनी आत्मकथा के लगभग 80 पेज लिख चुके थे. इसका शीर्षक थावेटिंग फॉर ए वीजा. यह किताब उनकी जन्म शताब्दी (1990) के अवसर पर प्रकाशित की गई. आंबेडकर ज्योतिराव फुले, सायाजीराव गायकवाड और मोहनदास गांधी पर भी किताबें लिखने की योजना बना रहे थे.

वह अक्सर रात में देर तक लिखने-पढ़ने का काम करते रहते. रत्तू ने इस अवधि के अपने संस्मरण लास्टफ्यू ईयर्स ऑफ आंबेडकर में लिखें हैं. इसमें उन्होंने आंबेडकर को अपनी किताबों की पांडुलिपियों पर घंटों काम करने के तनावों और फिर इनके प्रकाशनों के लिए संभावित प्रकाशकों से संपर्क करने के निरंतर प्रयासों के बारे में बताया है. रत्तू के मुताबिक, बुद्धा एंड हिज धम्म-जिसका मौलिक शीर्षक “बुद्धा एंड हिज गॉस्पल” था- उनकी पहली वरीयता थी और वह इसे अपने जीवनकाल में प्रकाशित होते देखना चाहते थे. इसको तैयार करना एक “जबर्दस्त और काफी दुष्कर काम था, जिसको मुझे अकेले ही करना था. मैं हमेशा आधी रात के बाद ही घर लौट पाता था.” रत्तू लिखते हैं, “टाइप की गई किताब में सुधार किया गया, दोबारा सुधार किया गया, उनका पेज नंबर दिया गया, संशोधन के बाद बढ़े हुए पृष्ठों के नंबर फिर से बदले गए, पैराग्राफ के नंबर दिए गए, संशोधन के बाद फिर उस नंबर को बदला गया. कभी-कभी कुछ पंक्तियां या किसी पैराग्राफ को कैंची से काटा गया और उन्हें इसके उपयुक्त स्थानों पर चिपकाया गया.”

रत्तू याद करते हैं, किस तरह हुआ वह रोजाना 25 किलोमीटर साइकिल चलाकर अपने घर से ऑफिस और फिर अलीपुर रोड जाते थे. चाहे जाड़ा हो, गर्मी, बरसात, आंधी-तूफान, बिजली कड़क रही हो या बादल गरज रहे हों, मुझे हर हाल में अपना ऑफिस करने के बाद पहुंचना ही पड़ता. रविवार और छुट्टी के दिन भी सुबह-सुबह ही वहां पहुंचना पड़ता और उनकी किताबों के लिए हाथ से लिखे ढेर के ढेर कागजों को टाइप करना पड़ता, उनकी चिट्ठियों का जवाब देना पड़ता, रोजमर्रे के ऑफिस के काम के बाद, इन सब के अलावा उनकी देखभाल भी करनी पड़ती थी. 5 दिसंबर की रात वह 5 दिनों में पहली बार अपने घर गए थे.

आतिरा कोनिक्करा करवां की रिपोर्टिंग फेलो हैं.

Keywords: Dalit Panthers Shiv Sena BR Ambedkar
कमेंट