लॉकडाउन से पैदा आर्थिक संकट से बढ़ रहीं आत्महत्याएं

04 जुलाई 2020
लॉकडाउन ने भारतीय अर्थतंत्र की रीड़ तोड़ कर रख दी है. दिहाड़ी मजदूर, प्रवासी मजदूर, किसान और असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले मजदूर, जो भारतीय श्रमशक्ति का 80 फीसदी हैं, पिछले तीन महीनों से रोटी-रोजगार का संकट झेल रहे हैं.
प्रशांत विश्वनाथन / ब्लूमबर्ग / गैटी इमेजिस
लॉकडाउन ने भारतीय अर्थतंत्र की रीड़ तोड़ कर रख दी है. दिहाड़ी मजदूर, प्रवासी मजदूर, किसान और असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले मजदूर, जो भारतीय श्रमशक्ति का 80 फीसदी हैं, पिछले तीन महीनों से रोटी-रोजगार का संकट झेल रहे हैं.
प्रशांत विश्वनाथन / ब्लूमबर्ग / गैटी इमेजिस

22 जून को उत्तर प्रदेश के आगरा शहर के जगदीशपुर इलाके के रहने वाले 53 साल के रघुवीर सिंह ने आत्महत्या कर ली. सिंह ने अपने सुसाइड नोट में लिखा, “हमारे पास में 25000 रुपए की नकदी थी लेकिन लॉकडाउन के वक्त घर में खाली बैठे-बैठे वह खत्म हो गई. इसके बाद हम क्या करते? इस आर्थिक तंगी से परेशान होकर मैं अपनी जिंदगी खत्म कर रहा हूं.” सिंह के भतीजे सचिन कुमार ने मुझे बताया, “चाचा पिछले 10 दिनों से काम की तलाश कर रहे थे लेकिन उन्हें कोई काम नहीं मिल रहा था. लॉकडाउन के समय वह अक्सर हमारे घर आया करते थे और परिवार की चिंता करते रहते थे.”

नोवेल कोरोनावायरस के चलते 25 मार्च से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन जारी है. लॉकडाउन ने भारतीय अर्थतंत्र की रीड़ तोड़ कर रख दी है. दिहाड़ी मजदूर, प्रवासी मजदूर, किसान और असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले मजदूर, जो भारतीय श्रमशक्ति का 80 फीसदी हैं, पिछले तीन महीनों से रोटी-रोजगार का संकट झेल रहे हैं. लॉकडाउन में जरूरी सोशल डिस्टेंसिंग ने सामुदायिक सपोर्ट सिस्टम को भी क्षतिग्रस्त कर दिया है जिसने आर्थिक असुरक्षा की भावना को और विकराल बना दिया है. लॉकडाउन शुरू होने के सप्ताह भर बाद ही मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने आबादी पर पड़ने वाले लॉकडाउन के संभावित प्रभाव से सचेत करना शुरू कर दिया था. हालांकि अभी इस संबंध में कोई आधिकारिक डेटा उपलब्ध नहीं है लेकिन मीडिया रिपोर्टों और लोगों से बातचीत के आधार पर कहा जा सकता है कि इस बीच आत्महत्या की संख्या में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है.

कुमार ने बताया कि सिंह लेदर कटर (चमड़ा काटने वाला) थे और उनका सबसे बड़ा बेटा भी यही काम करता है. सिंह के चार बच्चे हैं जिनमें से दो प्राइमरी स्कूल में पढ़ते हैं. सिंह का पूरा परिवार जिस एक कमरे के घर में रहता है उसका किराया 3500 रुपए महीना है. कुमार के पिता की मौत इस साल फरवरी में हो गई थी और तब से ही सिंह परेशान थे. जैसे ही लॉकडाउन हल्का हुआ तकलीफ और बढ़ गई. कुमार ने बताया, ''31 मई को चौथे चरण का लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी काम नहीं मिल रहा था.”

झांसी शहर के नंदपुर के 17 साल के शशांक रैकवार के पिता दीपक रैकवार ने 19 जून को आत्महत्या कर ली थी. शशांक ने बताया, “पापा टैक्सी चलाते थे और उनके पास दो टैक्सियां थीं. उन्होंने बैंक से कर्ज लेकर ये टैक्सियां खरीदी थीं. वह रोज सुबह 8 बजे टैक्सी लेकर निकल जाते थे और दोपहर में 1 बजे घर लौटते थे. फिर 4 बजे शाम को निकल जाते थे और रात को 9 बजे घर आते थे. शशांक ने बताया कि काम से लौटने के बाद पूरा परिवार एक साथ खाना खाता था और मोबाइल फोन पर गेम खेलता था. “उस दिन पापा हमारे साथ नहीं खेले. हमें लगा कि वह बीमार हैं.”

शशांक के दादा-दादी, बुआ और तीन भाई-बहन तीन कमरे के घर में रहते हैं. दीपक टैक्सी चलाते थे और बाकी परिवार मिठाइयों के डिब्बे बनाता था. शशांक ने बताया कि लॉकडाउन के बाद वह काम भी बंद हो गया था. शशांक ने बताया कि “लॉकडाउन के बाद जब टैक्सी चलाने की इजाजत मिली तो पापा कई दिनों तक टैक्सी लेकर जाते तो थे लेकिन किराया भी नहीं निकल रहा था. बड़ी मुश्किल से दिन में 50 या 100 रुपए कमा पाते थे. लॉकडाउन के समय पापा के पास कोई काम नहीं था लेकिन उन्हें दोनों टैक्सियों की किस्त चुकानी पड़ती थी जो हर महीने लगभग 30000 रुपए आती थी. इसके अलावा मेरे स्कूल वाले भी फीस मांग रहे थे. स्कूल में 19000 फीस जमा करनी थी.”

सुनील कश्यप कारवां में डाइवर्सिटी रिपोर्टिंग फेलो हैं.

Keywords: COVID-19 coronavirus lockdown coronavirus suicide
कमेंट