कोरोना लॉकडाउन : उत्तर प्रदेश में दलितों पर बढ़ रहे ठाकुरों के अत्याचार, पुलिस और प्रशासन नहीं दे रहे साथ

18 अगस्त 2020
11 जुलाई को सुनील की बहन सत्यवती, चाची, पत्नी और घर के बच्चे मंदिर जा रहे थे कि ठाकुर जाति के आकाश सिंह और उसके भाई विकास सिंह बहन को छेड़ने लगे. जब सत्यावती चिल्लाने लगी तो विकास और आकाश के पिता भगवान सिंह और छिदा सिंह भी वहां पहुंच गए और सत्यावती, चाची और सुनील की मां के साथ मारपीट करने लगे.
फोटो : सुनील कुमार
11 जुलाई को सुनील की बहन सत्यवती, चाची, पत्नी और घर के बच्चे मंदिर जा रहे थे कि ठाकुर जाति के आकाश सिंह और उसके भाई विकास सिंह बहन को छेड़ने लगे. जब सत्यावती चिल्लाने लगी तो विकास और आकाश के पिता भगवान सिंह और छिदा सिंह भी वहां पहुंच गए और सत्यावती, चाची और सुनील की मां के साथ मारपीट करने लगे.
फोटो : सुनील कुमार

कोरोना महामारी से निपटने के लिए लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में उत्तर प्रदेश के दलितों को दबंग जातियों, खासकर ठाकुरों, की हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है. इस दौरान शहरों में रोजगार खत्म हो गए हैं और लाखों लोग गांव तो लौट आए हैं लेकिन यहां इन्हें जातिवादी उत्पीड़न का शिकार होना पड़ रहा है.

12 जून को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट या आदित्यनाथ के जिले गोरखपुर में थाना गगहा के तहत आने वाले पोखरी गांव में में दलितों की एक बस्ती पर 100 से ज्यादा ठाकुरों ने हमला कर दिया. हमले में बहुत लोगों को गंभीर चोटें आईं और पुलिस ने कई धाराओं में मुकदमा भी दर्ज किया लेकिन अब तक इस घटना के किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

पोखरी गांव के 24 साल के अतुल कुमार ने मुझे बताया कि 12 जून को गांव में देवी काली की पूजा थी जिसे अतुल के मोहल्ले के तीन लोग, रजनीकांत, छोटू और उनके पिता मुरारी, देखने गए थे. अतुल ने मुझे बताया, “कुछ देर बाद मुरारी वहां से लौट आए. मुरारी के वापस आ जाने के बाद छोटू और रजनीकांत को गांव के ठाकुर मां-बहन की गाली देने लगे और दोनों को वहां से खदेड़ दिया.” अतुल ने आगे बताया, “लेकिन अगले दिन 13 जून को करीब 8 बजे हमारे मोहल्ले के शैलेश को, जो पकड़ी मार्किट जा रहा था, ठाकुरों ने रास्ते में पकड़ लिया और उसके साथ मारपीट की.”

मार से घायल शैलेश घर पहुंचा ही था कि बुजुर्ग ठाकुरों ने घर आकर माफी मांग ली और और दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया जिसके वहां मौजूद सभी लोग अपने-अपने घर चले गए. इसके बाद करीब 10 बजे सौ की संख्या में ठाकुरों ने गांव पर हमला कर दिया और उन्होंने गांव में मौजूद सभी लोगों को मारा. अतुल ने बताया, “मेरी गर्भवती भाभी मनीषा देवी को भी मारा.” गांव की चंद्रकला, अंकिता, रजनीकांत, रामकिरत और अन्य लोगों को गंभीर चोटें लगीं. अतुल ने कहा, “चंद्रकला तो दो दिनों तक गोरखपुर मेडिकल अस्पताल में भर्ती रही.” अतुल ने बताया कि हमले में उसके हाथ की एक उंगली टूटी गई. “मेरी डॉक्टरी जांच 10 दिन बाद हुई लेकिन तब तक मेरी चोट ठीक हो गई थी.”

गांव पर हमला करने वाले ठाकुर भद्दी-भद्दी गालियां दे रहे थे, अतुल ने बताया और कहा, “वे कह रहे थे ‘अबे चमार तुम्हारी यह हिम्मत कि तुम हमारे सामने बोलोगे.’ हम लोगों ने 29 नामजद और 71 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है लेकिन अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.”

सुनील कश्यप कारवां में डाइवर्सिटी रिपोर्टिंग फेलो हैं.

Keywords: caste atrocities upper-caste Hindus Scheduled Castes Casteism caste violence Yogi Adityanath
कमेंट