आप पार्टी से खुश पर वोट बीजेपी को ही देंगे दिल्ली के बनिया वोटर

चांदनी चौक सीट पर आम आदमी पार्टी से खुश बनिया समुदाय बीजेपी को वोट देना चाहता है.
संचित खन्ना/हिंदुस्तान टाइम्स/गैटी इमेजिस
चांदनी चौक सीट पर आम आदमी पार्टी से खुश बनिया समुदाय बीजेपी को वोट देना चाहता है.
संचित खन्ना/हिंदुस्तान टाइम्स/गैटी इमेजिस

1980 से चांदनी चौक लोकसभा सीट पर कांग्रेस या भारतीय जनता पार्टी का कब्जा रहा है, लेकिन 2014 में आम आदमी पार्टी (आप) के आगमन के साथ ही संसदीय क्षेत्र और राष्ट्रीय राजधानी की राजनीति पूरी तरह बदल गई. अपने पहले लोकसभा चुनाव में आप ने दिल्ली के 33 फीसदी वोट हासिल किए. उस साल चांदनी चौक में आप के उम्मीदवार आशुतोष को 31 प्रतिशत वोट मिले, जो कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल से 13 प्रतिशत ज्यादा थे. अगले साल दिल्ली विधानसभा चुनावों में आप को 70 में से 67 सीटें मिलीं. तब से पार्टी इस संसदीय क्षेत्र के लोगों की पसंद बनी हुई है. फिर भी इस लोकसभा चुनाव में यहां के व्यापारी बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के राष्ट्रवाद आधारित प्रचार की तरफ जा रहे हैं.

आम आदमी पार्टी ने अपना प्रचार जून 2018 में शुरू कर दिया था. इसके बावजूद चांदनी चौक में बीजेपी की लोकप्रियता बढ़ी है. आप ने दिल्ली के 5 लोकसभा क्षेत्रों के लिए प्रभारी नियुक्त किए थे, जिन्हें बाद में उम्मीदवार बना दिया गया. इस साल मार्च की शुरुआत में आप ने चांदनी चौक से अपने राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता को चांदनी चौक से उम्मीदवार घोषित किया. गुप्ता का मुकाबला यहां के निवर्तमान सांसद और केंद्र में विज्ञान और तकनीक मंत्री हर्षवर्धन और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जेपी अग्रवाल से है जो तीन बार इस सीट पर चुनाव जीत चुके हैं.

चांदनी चौक लोकसभा दिल्ली के मध्य और उत्तरी जिलों तक फैली है और इसमें 10 विधानसभा क्षेत्र हैं, जहां से आप के विधायक जीते थे. मैंने इनमें से तीन क्षेत्रों बल्लीमारान, अजमेरी गेट और चांदनी चौक का दौरा किया और पाया कि जमीन पर लोग केंद्र में मोदी सरकार के पक्ष में थे. हालांकि, आप को यहां से काफी समर्थन मिल रहा है, लेकिन देश के सबसे शक्तिशाली व्यापारी वर्ग बनिया समुदाय आप को राष्ट्रीय पार्टी नहीं मानता.

बुलियन और ज्वैलर्स एसोसिएशन के प्रमुख योगेश सिंघल ने कहा, "आप एक राज्य की और कांग्रेस और बीजेपी राष्ट्रीय पार्टी है. हम आप को वोट क्यों दें? उनको दो-तीन सीटें मिलेगी. इससे क्या हासिल होगा?" ऐसे ही अजमेरी गेट पर हार्डवेयर की दुकान चलाने वाले और बनिया समुदाय से आने वाले 72 वर्षीय पंजाबी चंचल गिरधर ने मुझे बताया कि आप ने बिजली के दाम कम किए हैं, फ्री पानी दिया है, शहर में परिवहन की व्यवस्था ठीक की है, लेकिन बीजेपी के अलावा दूसरी पार्टी को दिया गया वोट "बेकार करने के बराबर है."

अमृता सिंह कारवां की एडिटोरियल फेलो हैं.

Keywords: Elections 2019 Aam Aadmi Party Congress party BJP chandni chowk Narendra Modi Lok Sabha
कमेंट