कोरोना लॉकडाउन में मस्जिद और गुरुद्वारा आए साथ, भूखे मजदूरों के लिए शुरू की साझी रसोई

04 अप्रैल 2020
कोविड-19 लॉकडाउन में असलम चौधरी, हरबंस सिंह और सुरेंद्न सिंह कालू सराय मस्जिद परिसर में प्रवासी मजदूरों के लिए खाना बनाते हैं. वे शाहपुर जाट, हौज खास गांव, महरौली, बेगमपुर और कालू सराय में प्रवासियों के लिए 600 से 700 पैकेट भोजन पहुंचाते हैं.
शाहिद तांत्रे/कारवां
कोविड-19 लॉकडाउन में असलम चौधरी, हरबंस सिंह और सुरेंद्न सिंह कालू सराय मस्जिद परिसर में प्रवासी मजदूरों के लिए खाना बनाते हैं. वे शाहपुर जाट, हौज खास गांव, महरौली, बेगमपुर और कालू सराय में प्रवासियों के लिए 600 से 700 पैकेट भोजन पहुंचाते हैं.
शाहिद तांत्रे/कारवां

कोविड-19 लॉकडाउन के चलते भूख से बेहाल प्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने के लिए दक्षिणी दिल्ली के कालू सराय इलाके में मस्जिद और गुरुद्वारा एक साथ आए हैं. 30 मार्च से ही कालू सराय गांव के गुरुद्वारा श्री सिंह सभा के 2 सेवादार, हरबंस सिंह और सुरेंद्र सिंह, हर रोज सुबह 9 बजे पास की मस्जिद में जा रहे हैं. जब तक वे मस्जिद पहुंचते हैं पड़ोस के ही असलम चौधरी तथा कुछ अन्य लोग गोदाम से चावल का एक बैग निकाल चुके होते हैं, सब्जियों की कटाई और मसालों को छांटना शुरू हो चुका होता है. प्याज, टमाटर, आलू, फल्ली, गाजर और हरी मटर को काटकर तैयार हो चुका रहता है और अदरक और लहसुन का बारीक पेस्ट मिक्सर में बन गया होता है. अब इन्हें तेल में डाला जाएगा. यह मैन्यू मोटे तौर पर हर दिन का है यानी अलग-अलग सब्जियों का पुलाव, हालांकि रोज-रोज के खाने में कुछ सब्जियां जरूर बदल जाती हैं. सोयाबीन के टुकड़े गाजर और फल्ली की जगह ले लेते हैं, या इसके बजाय वे दाल डालकर खिचड़ी बनाते हैं. चौधरी ने कहा, "चावल पकाना और पैक करना आसान है और पुलाव पौष्टिक होता है." उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली की झुग्गियों या शहर भर में फैले मजदूरों को खाना खिलाना है तो ऐसा करना ही पड़ेगा.

24 मार्च को, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 के प्रसार का मुकाबला करने के लिए 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी बंद की घोषणा की. अगले दिन रिपोर्टें आने लगीं कि दिल्ली और मुंबई जैसे शहरी केंद्रों से हजारों मजदूर पड़ोस के राज्यों में अपने घरों तक पहुंचने के लिए सैकड़ों मील की यात्रा पर निकल पड़े. ऐसे शहरों में बिना निश्चित आय वाले लोगों, जैसे दिहाड़ी मजदूर, झुग्गी-झोपड़ियों के निवासी और शारीरिक श्रम में लगे लोग- ने देखा कि धंधों, कारखानों और छोटे स्तर की विनिर्माण इकाइयों के बंद हो जाने से उनकी आय का जरिया बंद हो गया है. समाचारों की रिपोर्ट के अनुसार इन शहरों में बेरोजगारी और भुखमरी का संकट पैदा हो गया है. दिल्ली सरकार ने तब से कुछ कदमों की घोषणा की है, जैसे कि 4 लाख लोगों को खिलाने के लिए 500 भूख राहत केंद्र स्थापित करना और भूख हेल्पलाइन शुरू करना. राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में, नागरिक-समाज समूह, व्यक्ति और धार्मिक संस्थान जैसे मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारे हजारों मजदूरों को खिलाने की जिम्मेदारी उठाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. ये ऐसे प्रयास हैं जिन्हें उस पैमाने की कमी और पहुंच का सामना करना पड़ रहा है जो सरकार प्रदान कर सकती है.

जब मैं 31 मार्च को मस्जिद में चौधरी से मिला तो उन्होंने कहा, "स्थिति बहुत खराब है. मुझे दक्षिण दिल्ली के महरौली, हौज खास गांव, बेगमपुर से भोजन के लिए बहुत हताशा भरे फोन आ रहे हैं." मोदी की लॉकडाउन की घोषणा के दो दिन बाद 26 मार्च से चौधरी की रसोई शुरू हुई. चौधरी एक मेस चलाते हैं और कैटरिंग का व्यवसाय करते हैं. वे ज्यादा मात्रा में खाना पकाना जानते हैं. शुरू में उन्होंने प्रवासियों के लिए खाना पकाने के लिए कुछ लोगों को काम पर रखा था लेकिन वे उनके द्वारा बनाए गए भोजन से खुश नहीं थे. पास के गुरुद्वारे में लंगर की बात करते हुए उन्होंने कहा, “लंगर बंद है, इसलिए मैंने उनसे पूछा कि क्या मैं उनके बर्तन उधार ले सकता हूं. वे सहमत हो गए." चौधरी ने कहा कि गुरुद्वारे ने उन्हें दो बड़े बर्तन भेजे हैं - एक बड़ा भगोना, जिसमें 25 किलोग्राम चावल बन सकते हैं और एक छोटा भगोना जिसमें 10 किलोग्राम तक चावल बन सकता है. गुरुद्वारे ने दो रसोइयों को भी भेजा, जो खाना बनाने में चौधरी की मदद कर सकते थे. रसोइया, सुरेंद्र सिंह के साथ आए लंगर सुपरवाइजर हरबंस सिंह ने कहा, "हम यहां जो कर रहे हैं, वह लंगर में हम जो करते हैं उससे बहुत अलग नहीं है. यह ईश्वर की कृपा है और जब तक लॉकडाउन जारी है हम सेवा करेंगे."

चौधरी पहले दिन बेसमेंट में स्थित अपनी मेस में खाना बना रहे थे और गुरुद्वारा के कर्मचारी भी उनके साथ हो गए. चूंकि बेसमेंट में अंधेरा और घुटन थी इसलिए अगले दिन ही उन्होंने रसोई को अब खाली पड़ी मस्जिद में स्थानांतरित कर दिया. जिस दिन मैंने वहां का दौरा किया तो 10 बजे तक 10 किलोग्राम आलू, 7 किलोग्राम टमाटर और प्याज और ढाई-ढाई किलोग्राम गाजर, बीन्स और मटर पकने के लिए तैयार थे. चावल को पानी में भिगो दिया गया था और देगजी तैयार की जा रही थी. सुरेंद्र सिंह, जिन्हें कालू सराय में बिल्ला के नाम से जाना जाता है, खाना बना रहे थे. बिल्ला एक स्कूल में काम करते हैं और अपना बाकी समय गुरुद्वारे के लंगर में बिताते हैं. चूंकि स्कूल और गुरुद्वारा दोनों बंद हो गए थे तो वे अपनी सेवाएं चौधरी की रसोई में दे रहे थे. वे लगातार नौजवानों को निर्देश देते थे और उन्हें बताते थे कि सब्जियों को कैसे काटें और साफ करें, इस दौरान हरबंस एक कुर्सी पर बैठकर पूरी प्रक्रिया का पर्यवेक्षण करते थे. हर 15 मिनट में, उनमें से एक व्यक्ति पास से ही हैंड सैनिटाइज़र की एक नीली बोतल उठा लाता और इसे बाकी लोगों को भी देता. कमरे में सभी लोग या तो मास्क पहने हुए थे या उनके चेहरे पर रूमाल बंधा हुआ था.

चौधरी ने कहा, ''कोविड-19 एक ऐसी बीमारी है, जिसे पासपोर्ट धारक भारत में लाए थे और अब राशन कार्ड धारक इससे पीड़ित हैं. मुझे कल गाजियाबाद के इंदिरापुरम से फोन आया और हमने खाने के कुछ पैकेट देने वहां गए." चौधरी और उनकी टीम के पास सरकार द्वारा जारी किए गए तीन लॉकडाउन पास हैं. यह पास उन्हें पुलिस द्वारा रोड ब्लॉक की स्थिति में जाने की अनु​मति देता है. वे खाना पहुंचाने के लिए एक महंगे स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल का भी इस्तेमाल करते हैं. "क्या आपने कभी पुलिस को महंगे वाहनों को रोकते या ड्राइवरों को परेशान करते देखा है?" चौधरी ने पूछा. "बस गरीबों को ही खामियाजा भुगतना होता है." उन्होंने कहा कि वाहन का बूट खाने के पैकेट और सूखे राशन से भरे बैग रखने के लिए काफी बड़ा है.

तुषार धारा कारवां में रिपोर्टिंग फेलो हैं. तुषार ने ब्लूमबर्ग न्यूज, इंडियन एक्सप्रेस और फर्स्टपोस्ट के साथ काम किया है और राजस्थान में मजदूर किसान शक्ति संगठन के साथ रहे हैं.

Keywords: COVID-19 mosque Sikhism Islam migrant workers
कमेंट