बेताज बादशाह

नरेन्द्र मोदी का उदय

23 जनवरी 2019
विकास कोथ/इंडियन एक्सप्रेस आर्काइव
विकास कोथ/इंडियन एक्सप्रेस आर्काइव

22 अप्रैल 1498 की दोपहर. पूर्वी अफ्रीका के मालिंदी बंदरगाह से कुछ किलोमी​टर दूर कप्तान मेजर वास्को द गामा की खुशी का ठिकाना नहीं है. इस महाद्वीप में मोजाम्बिक से मोम्बासा के बीच दक्षिणपूर्वी तट पर चार महीनों तक बहते रहने के बाद इस पुर्तगाली कप्तान को एक ऐसा नाविक मिल गया था जो उसे भारत ले जाने वाला था. अपनी यात्रा में द गामा को स्थानीय शासकों, अरब और अफ्रीकी व्यापारियों की शत्रुता का सामना करना पड़ा था.

''एशिया का समुद्री मार्ग खोजने वाले'' के रूप में मशहूर द गामा को कालीकट पहुंचाने वाले नाविक का नाम कांजी मालम था. वह गुजराती था. कपास और नील का यह व्यापारी सोने और हाथीदांत के बदले अपने माल का सौदा करने अफ्रीकी तटों पर अक्सर जाया करता था. आश्चर्य की बात नहीं कि एक गुजराती, द गामा को भारत लेकर आया था. जहाज चलाने, समुद्र में सफर करने और व्यापार करने के मामले में गुजारती कौशल का पहले ही लोहा माना जा चुका था. साथ ही गुजरातियों ने फारस की खाड़ी से लेकर मलेशिया और इंडोनेशिया तक व्यापार मार्ग स्थापित कर रखे थे. 

पुर्तगालियों के यहां पहुंचने के दो शताब्दी पहले गुजरात, दुनिया के दो मुख्य व्यापार अक्षों सिल्क और मसाला व्यापार का जंक्शन पर रह चुका है. ये उपमहाद्वीप में प्रवेश करने वाले अफ्रीकी, अरब और एशियाई बंदरगाहों के सामानों के लिए एक प्रमुख वितरण का केंद्र था. समुद्री किनारे से एक अंतर्देशीय व्यापार मार्ग बिहार, दूसरा उत्तर में मथुरा और तीसरा दक्षिण में मराठावाड़ को जाता था. यूरोप के लोगों के भारत में कदम रखने से सदियों पहले ग्रीस, अरब, फारस, अफ्रीका और चीन के व्यापारी गुजरात में व्यापार करने आते थे.

 (1)

जनवरी 2011 के दूसरे हफ्ते में 100 से ज्यादा देशों के 10000 से ज्यादा व्यापारी गांधीनगर पहुंचे. ये लोग साल में दो बार होने वाले “वाइब्रेंट गुजरात” समिट में हिस्सा लेने पहुंचे थे. यह एक निवेश संबंधित संकल्पों और दस्तखतों से जुड़ा एक मैराथन समारोह है. जिसका मुख्य उद्देश्य गुजरात में व्यापार को बढ़ावा देना है. इसमें संयोग की बात नहीं कि ऐसा करते हुए इसका काम सुर्खियां बटोरना भी है. 2011 मेले ने गिनती के मामले में निराश नहीं किया. जब यह समाप्त हुआ, तब तक व्यापारियों ने 450 बिलियन डॉलर से ज्यादा के निवेश का वादा किया था, जो किसी भी विकासशील अर्थव्यवस्था के एक इवेंट में हासिल की गई सबसे बड़ी रकम थी. मीडिया ने इस अद्भुत रकम को लेकर न सिर्फ नम्रतापूर्वक नगाड़े पीटे बल्कि व्यापारियों द्वारा गुजरात के मुख्यमंत्री को दिए जा रहे सम्मान का भी एक सुर में गुणगान किया.

विनोद के जोस द कैरवैन के कार्यकारी संपादक हैं.

Keywords: Zakia Jafri Muslims in India BJP RSS Narendra Modi 2002 Godhra riots Muslim politics Ehsan Jafri Congress party
कमेंट